कालीबंगा संग्रहालय राजस्थान | Kalibanga Museum Rajasthan

कालीबंगा संग्रहालय राजस्थान | Kalibanga Museum Rajasthan


 Kalibanga Museum Rajasthan कालीबंगा संग्रहालय राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में एक प्राचीन और ऐतिहासिक स्थान है। प्राचीन दर्शवती और सरस्वती नदी घाटी वर्तमान में घग्गर नदी के क्षेत्र की उत्पत्ति भी प्राचीन कालीबंगा सभ्यता में सेंधव सभ्यता से हुई है।

कालीबंगा को 4000 ई.पू. से भी अधिक प्राचीन माना जाता है। कालीबंगा एक छोटा सा शहर था। यहां एक किला मिला है।

काली बंगा की खोज सबसे पहले 1952 में अमलानंद घोष ने की थी।

1961-69 के बीच हड़प्पा की खुदाई से मिली वस्तुओं को रखने के लिए 1983 में कालीबंगा संग्रहालय की स्थापना की गई थी। कालीबंगा संग्रहालय हनुमानगढ़ से लगभग बीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

कालीबंगा संग्रहालय का इतिहास |  Kalibanga Museum History In Hindi

कालीबंगा संग्रहालय

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले में स्थित कालीबंगा स्थान पर उत्खनन, 1961 में 26 फुट ऊंचे पश्चिमी टीले के अवशेषों से ज्ञात होता है।

ज्ञात होता है कि लगभग 4000 वर्ष पूर्व सरस्वती नदी के किनारे हड़प्पा कालीन सभ्यता फल-फूल रही थी। कालीबंगा हनुमानगढ़ जिले में पीलीबंगा के पास स्थित है।

महाभारत के समय सरस्वती लुप्त हो गई थी और 13वीं शताब्दी तक सतलुज, व्यास में मिल गई थी। सरस्वती रेतीले हिस्से में पानी की मात्रा कम होने के कारण सूख गई थी।

कालीबंगा सभ्यता राजस्थान 

वाकनसर के अनुसार, 200 से अधिक शहर सरस्वती नदी के तट पर बसे थे, जो हड़प्पा के समकालीन है। इस कारण इसे 'सिंधुति की सभ्यता' के स्थान पर 'सरस्वती नदी की सभ्यता' कहा जाना चाहिए।

1922 में राखल दास बनर्जी और दयाराम साहनी के नेतृत्व में कालीबंगा से प्राप्त पुरातत्व सामग्री

मोहन-जोदड़ो और हड़प्पा (अब पाकिस्तान में लरकाना जिले में स्थित) की खुदाई से हड़प्पा या सिंधु घाटी सभ्यता के अवशेष मिले हैं, जिनसे 4500 साल पहले प्राचीन सभ्यता की खोज हुई थी।

बाद में इस सभ्यता के लगभग 100 केंद्र खोजे गए, जिनमें राजस्थान का कालीबंगा क्षेत्र बहुत महत्वपूर्ण है। मोहन-जोदरो और हड़प्पा के बाद कालीबंगा हड़प्पा संस्कृति का तीसरा सबसे बड़ा शहर है।

कालीबंगा संग्रहालय |  Kalibanga Museum

एक टीले की खुदाई निम्नलिखित अवशेषों के रूप में प्राप्त होती है, जिनकी विशेषताएँ भारतीय सभ्यता के विकास में अपना योगदान देती हैं -

1. तांबे के औजार और मूर्तियाँ

कालीबंगा में खुदाई से प्राप्त अवशेषों में तांबे के औजार, हथियार और मूर्तियाँ मिली हैं, जिससे पता चलता है कि मानव पत्थर युग के युग में प्रवेश कर चुका था।

इसमें पाए जाने वाले काले तांबे की चूड़ी के कारण इसे कालीबंगा कहा जाता था। यह महत्वपूर्ण है कि पंजाबी में 'वंगा' शब्द का अर्थ चूड़ी है, इसलिए कालीबंगा का अर्थ है काला धमाका।

2. सील

कालीबंगा से सिन्धु घाटी (हड़प्पा) सभ्यता की मिट्टी पर बनी मुहरें मिली हैं, जिन पर वृष एवं अन्य जंतुओं तथा शास्त्रों में लेख हैं, जो अभी तक पढ़े नहीं गए हैं। यह लिपि दाएँ से बाएँ लिखी जाती थी।

3. तांबे या मिट्टी की मूर्तियां पशु-पक्षी और मानव रचनाएं

जानवरों को बैल, बंदर और पक्षियों की मूर्तियाँ मिली हैं, जो पशुपालन और कृषि में इस्तेमाल होने वाले बैलों को दर्शाती हैं।

4. मापन विभाग

इस युग में मनुष्यों को मापने के विभाजन का प्रयोग करना सीखा गया था।

5. बर्तन

कालीबंगा से विभिन्न प्रकार के मृदभांड भी प्राप्त हुए हैं, जिन पर चित्रकारी भी की गई है।

6. आभूषण

विभिन्न प्रकार के स्त्री-पुरुषों से बने आभूषण जैसे शीशा, कस्तूरी, शंख, घोंघे आदि भी मिलते हैं, जैसे कंगन, चूड़ियाँ आदि।

7. नगर नियोजन

मोहन-जोदड़ो और हड़प्पा की तरह कालीबंगा में धूप में सुखाई गई ईंटों की ईंटों से बने मकान, दरवाजे, चौड़ी सड़कें, कुएं, नालियां आदि हैं, जो शहर पर पूर्व-योजना के अनुसार बनाए गए हैं। -प्लानिंग, साफ-सफाई, पीने के पानी की व्यवस्था आदि पर तत्कालीन मानव ने प्रकाश डाला। मोहन जोदादो के विपरीत, कालीबंगा का घर ईंट की ईंटों से बना था।

8. कृषि संबंधी अवशेष

कालीबंगा से प्राप्त विलयन से प्राप्त रेखाएँ भी प्राप्त हुई हैं जो सिद्ध करती हैं कि मानव कृषि कार्य भी यहाँ होता था। इसकी पुष्टि बैल और अन्य पालतू मूर्तियों से भी होती है। बारहसिंगा की हड्डियाँ और हड्डियाँ भी प्राप्त हुई हैं। बैलगाड़ी के खिलौने भी मिले हैं।

9. खिलौने

यहाँ से धातु और मिट्टी के खिलौने भी प्राप्त हुए हैं, जो बच्चों के मनोरंजन के आकर्षण को प्रकट करते हैं।

10. धर्म अवशेष

कालीबंगा, आर्कटिक और अंडाकार चिमनियों और सांडों से, बरसिंघी के बैंड से पता चलता है कि यहाँ भी जानवरों की बलि दी जाती थी।

उपरोक्त अवशेषों के स्रोतों के रूप में कालीबंगा और सिंधु घाटी सभ्यता में इनका विशेष स्थान है।

चूँकि कुछ पुरातत्वविद सरस्वती तट पर बस गए हैं, इसलिए कालीबंगा सभ्यता को 'सरस्वती घाटी सभ्यता' कहना अधिक उपयुक्त लगता है।

कालीबंगा संग्रहालय आने का समय

प्रतिदिन 09.00 से 05.00 बजे तक

कालीबंगा संग्रहालय हनुमानगढ़ कैसे पहुंचे

रेलवे स्टेशन के पास कालीबंगा - पीलीबंगा 6 KM

Post a Comment

Previous Post Next Post