नाहरगढ़ किला जयपुर राजस्थान | Nahargarh Fort Jaipur Rajasthan

नाहरगढ़ किला जयपुर राजस्थान | Nahargarh Fort Jaipur Rajasthan

 Nahargarh Fort In Hindi नाहरगढ़ किला जयपुर राजस्थान में अरावली पहाड़ियों के बीच स्थित है। नाहरगढ़ किला जितना अद्भुत है उतना ही शानदार है। यह आमेर किले और जयगढ़ किले के साथ जयपुर शहर को कड़ी सुरक्षा प्रदान करता है।

वास्तव में, किले का नाम पहले सुदर्शनगढ़ था लेकिन बाद में इसे नाहरगढ़ किले के रूप में जाना जाने लगा, जिसका अर्थ है "शेर का स्थान।" नाहरगढ़ किले से पूरे जयपुर शहर का नजारा बेहद खूबसूरत होता है।

"नाहरगढ़ का किला राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध किलों में से एक है।" नाहरगढ़ जैविक उद्यान नाहरगढ़ किला  जयपुर में   स्थित है।

नाहरगढ़ किला जयपुर इतिहास | Nahargarh Fort Jaipur History

कई महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाओं के अनुसार नाहरगढ़ किले का निर्माण जयपुर शहर के संस्थापक महाराजा सवाई जय सिंह ने 1734 में करवाया था। यह किला 1868 में बनकर तैयार हुआ था। इस किले का उपयोग शाही परिवार द्वारा ग्रीष्मकालीन महल के रूप में किया जाता था। इस किले में रानियों के लिए 12 विशेष कमरे और राजा के लिए एक आलीशान कमरा बनाया गया था।

इस किले की सबसे अच्छी बात यह है कि इस किले के लंबे इतिहास में कभी भी इस पर हमला नहीं हुआ है। हालांकि, किला 18 वीं शताब्दी में मराठा सेनाओं के साथ संधियों पर हस्ताक्षर करने जैसी प्रमुख ऐतिहासिक घटनाओं का स्थल रहा है।

किले को 1857 के सिपाही विद्रोह के दौरान कई यूरोपीय लोगों को आश्रय देने के लिए भी जाना जाता है। महल का नवीनीकरण वर्ष 1868 में हुआ था जब राजस्वई राम सिंह ने नाहरगढ़ किले के अंदर कई महलों का निर्माण किया था। 'नाहरगढ़ फोर्ट रंग दे बसंती' और 'शुद्ध देसी रोमांस' जैसी फिल्मों की शूटिंग भी हो चुकी है।

नाहरगढ़ किला जयपुर, राजस्थान का एक बहुत ही आकर्षक किला है जो अपने पीले रंग के साथ गुलाबी शहर जयपुर में बहुत आकर्षक लगता है। इस किले को सवाई राजा मान सिंह ने अपनी रानियों के लिए बनवाया था, लेकिन राजा की मृत्यु के बाद नाहरगढ़ किले को भूतिया किला कहा जाने लगा। लोगों का मानना ​​है कि इस किले में राजा का भूत रहता है।

महल के कमरे गलियारों से जुड़े हुए हैं और महल में कुछ दिलचस्प और नरम भित्तिचित्र हैं। नाहरगढ़ किला महाराजा का निवास स्थान हुआ करता था, अप्रैल 1944 तक जयपुर सरकार कार्यालय के काम के लिए इसका इस्तेमाल करती थी।

नाहरगढ़ किला जयपुर | Nahargarh Fort Jaipur

किले के पश्चिमी भाग में “पड़व” नामक एक रेस्तरां भी है, जहाँ खाने-पीने की पूरी व्यवस्था है। यहां से सूर्यास्त बेहद खूबसूरत नजर आता है।

नाहरगढ़ जैविक उद्यान, नाहरगढ़ किला जयपुर | Nahargarh Biological Park,

किले की आकर्षक संरचनाओं में स्थित नाहरगढ़ जैविक उद्यान भी एक भव्य जैविक उद्यान है, जो इस किले का एक विशेष आकर्षण है। नाहरगढ़ अभयारण्य के 7.2 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले इस जैविक पार्क को बारीक ग्रेनाइट और क्वार्टजाइट चट्टानों से सजाया गया है। यह पार्क अपने समृद्ध वनस्पतियों के लिए जाना जाता है जिसमें आप कई जानवरों को उनके प्राकृतिक परिवेश में देख सकते हैं। लगभग आधी से ज्यादा जयपुर  सिटी का नजारा देखा जा सकता है

इस जैविक पार्क में एशियाई शेर, बंगाल टाइगर और भारतीय तेंदुए भी पाए जाते हैं। सबसे खास बात यह है कि पार्क में पक्षियों की 285 प्रजातियां भी पाई जाती हैं, जो पक्षी प्रेमियों के लिए बेहद खुशी की बात है।

नाहरगढ़ जूलॉजिकल एक और पर्यटन केंद्र है, जहां एशियाई शेर, बंगाल टाइगर, पैंथर, भेड़िया, हिरण, लकड़बग्घा, मगरमच्छ, हिमालयी काले भालू, सुस्त भालू, जंगली सूअर आदि जानवर पाए जाते हैं।

अक्टूबर से मार्च तक, नाहरगढ़ किले की यात्रा करने का एक अच्छा समय है, जब तापमान 20-24 डिग्री होता है। ऐसे में आप आसानी से किले की हर चीज का लुत्फ उठा सकते हैं।

नाहरगढ़ किले का समय

विजिटिंग टाइम - 10.00 से 05.30

नाहरगढ़ किला जयपुर टिकट की कीमत

शुल्क - विदेशी पर्यटकों के लिए  200 रुपये  और भारतीय पर्यटकों के लिए 50 रुपये

यात्रा की अवधि- 2-3 घंटे

कैसे पहुंचें नाहरगढ़ किला जयपुर राजस्थान

रेलवे स्टेशन के पास - जयपुर 20 KM

हवाई अड्डे के पास - जयपुर 30 KM

 

जयपुर से नाहरगढ़ किले के लिए टैक्सी व ऑटो की सुविधा उपलब्ध

Post a Comment

Previous Post Next Post