शीश महल जयपुर राजस्थान | Sheesh Mahal Jaipur Rajasthan In Hindi

शीश महल जयपुर राजस्थान | Sheesh Mahal Jaipur Rajasthan


 Sheesh Mahal Jaipur Rajasthan  In Hindi शीश महल जयपुर राजस्थान राज्य के जयपुर जिले में आमेर किले में स्थित एक खूबसूरत इमारत है यह भारत की प्रसिद्ध ऐतिहासिक इमारतों में से एक है इस महल में कांच के टुकड़े लगे हैं जो देखने में बेहद खूबसूरत लगते हैं इस महल को दर्पण होल के नाम से भी जाना जाता है शीश पैलेस जय मंदिर का एक हिस्सा है जिसे खूबसूरती से शीशों से सजाया गया है

 शीश महल जयपुर की वास्तुकला 

शीश महल का निर्माण शीश महल के वास्तुकारों  द्वारा पत्थरों और कांच से किया गया है जिसके कारण रात में कांच में दो मोमबत्तियों का प्रतिबिंब पूरे कमरे में सितारों की तरह दिखता था जाड़े के मौसम में राजा सुख निवास से शीश महल में शिफ्ट हो जाते थे मोमबत्तियों से दर्पण वाले कांच के प्रतिबिंबों की छत कमरे को गर्म रखती है

 छत और दीवारों पर कांच के टुकड़े तब परिलक्षित होते हैं जब प्रकाश गिरता है और चमक पूरे महल में फैल जाती है जयपुर के राजा जयसिंह ने इस महल को अपने खास मेहमानों के लिए बनवाया था 40 खंभों वाले इस शीश महल में माचिस की तीली जला कर पूरे महल में रोशनी की जाती है 

शीश महल का इतिहास जयपुर राजस्थान  | Sheesh Mahal Jaipur Rajasthan History In Hindi

शीश महल का निर्माण महाराजा जयसिंह ने 1623 ईस्वी में करवाया था शीश महल के शीशे बेल्जियम से आयात किए गए थे

 40 खंभों पर टिकी इस भव्य इमारत के कांच के टुकड़ों को बेहद खूबसूरत भित्ति चित्रों से सजाया गया है इन दर्पणों की संख्या लाखों में मानी जाती है

 अगर अंधेरे में मोमबत्ती जलाई जाए तो चारों तरफ लाखों रोशनी चमकती है यही इस महल की खूबसूरती और खासियत है कांच की बारीक कारीगरी के कारण शीश महल के नाम से भी जाना जाता है 

मशहूर फिल्म अभिनेता दिलीप कुमार द्वारा अभिनीत सुपरहिट फिल्म मुग़ल-ए-आज़म का प्रसिद्ध गीत जब प्यार किया तो डरना क्या शीश महल में फिल्माया गया था इस गीत में शीश महल के गुणों पर प्रकाश डाला गया है 

अनेक रंगों के दर्पण को रोशनी में रोशन किया जाता है तो ऐसा लगता है कि किसी ने चमचमाते गहनों और गहनों को खोल दिया है 

शीश महल जयपुर राजस्थान का नवीनीकरण 

भारत सरकार ने 1970 और 1980 के बीच शीश महल पैलेस का जीर्णोद्धार द्वार करवाया है इसकी मरम्मत की गई है और यह पहले की तरह सुंदर दिखता है इसमें संगमरमर के पत्थर की कारीगरी की गई है महल की खिड़कियां, वेंट 'मौथा झील' और आमेर का सुंदर दृश्य प्रस्तुत करते हैं।

जयपुर में प्रवेश शुल्क शीश महल

जयपुर में शीश महल आमेर किले के अंदर स्थित है। तो, इस महल का प्रवेश शुल्क आमेर किले के टिकटों में शामिल है, जिसकी कीमत भारतीयों के लिए ₹25 और गैर-भारतीय आगंतुकों के लिए ₹200 हैं

 शीश महल जयपुर का समय

सोमवार 9:30 बजे से रविवार शाम 4:30 बजे तक

कैसे पहुंचें शीश महल जयपुर राजस्थान

रेलवे स्टेशन के निकटतम जयपुर जंक्शन

 जयपुर हवाई अड्डे के पास जयपुर राजस्थान

Post a Comment

Previous Post Next Post